भारतीय राजदूत के साथ गुरुद्वारे में हुई बदसलूकी, भड़क गया अमेरिकी सिख संगठन

अमेरिका स्थित एक सिख संगठन ने न्यूयॉर्क में एक गुरुद्वारे की यात्रा के दौरान खालिस्तानियों द्वारा अमेरिका में भारतीय राजदूत तरणजीत सिंह संधू के साथ दुर्व्यवहार की कड़ी निंदा की है। इसने मंदिर प्रबंधन से इसमें शामिल लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का भी आह्वान किया ताकि श्रद्धालु “बिना किसी डर या दबाव के” प्रार्थना कर सकें। एक समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिका के सिखों ने सोमवार को जारी एक बयान में कहा कि गुरुद्वारों को व्यक्तिगत राजनीतिक विचारों से मुक्त होना चाहिए क्योंकि वे पूजा स्थल हैं। संधू रविवार (स्थानीय समय) पर लॉन्ग आइलैंड के हिक्सविले गुरुद्वारे में गुरुपर्व प्रार्थना में शामिल हुए। पीटीआई ने सूत्रों के हवाले से बताया कि गुरुद्वारे में उनका गर्मजोशी से स्वागत किया गया।

भारत के राजदूत तरणजीत सिंह संधू के साथ हुआ दुर्व्यवहार 

अमेरिका की एक सिख संस्था ने सप्ताहांत में न्यूयॉर्क गुरुद्वारे की यात्रा के दौरान अमेरिका में भारत के राजदूत तरणजीत सिंह संधू के साथ दुर्व्यवहार की निंदा की तथा गुरुद्वारा प्रबंधन से इसमें शामिल लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की। सिख ऑफ अमेरिका नामक संस्था ने सोमवार को जारी एक बयान में कहा कि गुरुद्वारा पूजा स्थल हैं, लोगों को यहां व्यक्तिगत राजनीतिक विचारों से मुक्त रहना चाहिए। संधू ने रविवार को गुरुपर्व के मौके पर न्यूयॉर्क के लॉन्ग आईलैंड में स्थित हिक्सविले गुरुद्वारे में प्रार्थना की थी।

गुरुद्वारे में संधू के साथ धक्का-मुक्की किए जाने की निंदा

संधू के साथ हुई घटना का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है। वीडियो में खालिस्तानी समर्थकों का एक समूह गुरुद्वारे के भीतर संधू के साथ धक्का-मुक्की करते तथा खालिस्तानी अलगाववादी हरदीप सिंह निज्जर के बारे में सवाल करते हुए नजर आ रहा है। निज्जर, इस साल जून में कनाडा में मारा गया था।

घटना के बाद सिख समुदाय के लोगों ने उपद्रवियों को गुरुद्वारे से बाहर निकाला। सिख ऑफ अमेरिका के संस्थापक और अध्यक्ष जसदीप सिंह जस्सी और इसके अध्यक्ष कंवलजीत सिंह सोनी ने एक संयुक्त बयान में कहा, हम गुरुद्वारा साहिब के प्रबंधन से इन उपद्रवियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग करते हैं, ताकि न्यूयॉर्क में शांतिप्रिय सिख समुदाय बिना किसी डर या दबाव के स्वतंत्र रूप से गुरुद्वारों में आ सकें।

उन्होंने कहा, राजदूत संधू गुरुद्वारा साहिब में प्रार्थना करने गए और यहां के प्रबंधन ने उन्हें सरोपा साहिब से सम्मानित किया। उसके बाद, चंद उपद्रवियों ने उनका अनादर करने की कोशिश की और गुरुद्वारा साहिब की शांति और पवित्रता को भंग किया। गुरुद्वारा पूजा स्थल हैं और लोगों को यहां व्यक्तिगत राजनीतिक विचारों से मुक्त रहना चाहिए। बयान में कहा गया, अमेरिका का प्रमुख सिख संगठन सिख ऑफ अमेरिका, कल न्यूयॉर्क में भारतीय राजदूत तरणजीत सिंह संधू के अपमान की कड़ी निंदा करता है। खालिस्तानियों के विरोध के बावजूद संधू का हिक्सविले गुरुद्वारे में गर्मजोशी से स्वागत हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here