मुजफ्फरनगर: पैसे के लेनदेन को लेकर युवक की हत्या, आरोपी गिरफ्तार

मुजफ्फरनगर। जिले में शातिर अपराधियों की गिरफ्तारी हेतु वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अभिषेक सिंह के निर्देशन में चलाये जा रहे अभियान के अर्न्तगत थाना नई मण्डी पुलिस ने हत्या के मामले में एक आरोपी को सिंधावली कट से गिरफ्तार किया गया। अभियुक्त के कब्जे से आलाकत्ल चाकू, फरसा, मृतक की स्कूटी व नकदी बरामद की है।

एसपी सिटी सत्यनारायण प्रजापत ने घटना का खुलासा करते हुए बताया कि थानाक्षेत्र नई मण्डी के जानसठ रोड स्थित मारूति नेक्शा शोरूम में कैश लाने व ले जाने का काम करने वाले धर्मेन्द्र पुत्र रविन्द्र सिंगाडिया निवासी अग्रसेन विहार थाना नई मण्डी, मुजफ्फरनगर के लापता हो जाने के सम्बन्ध में परिजनों द्वारा दी गयी थी। तहरीर के आधार पर थाना नई मण्डी पर गुमशुदगी दर्ज करते हुए थाना नई मण्डी पुलिस द्वारा धर्मेन्द्र उपरोक्त की तलाश की जा रही थी। इसी दौरान 8 जुलाई को थानाक्षेत्र मंसूरपुर में अज्ञात युवक का शव बरामद हुआ जिसकी शिनाख्त धर्मेन्द्र के रुप में हुई। इस घटना के सफल अनावरण हेतु टीम गठित की गयी थी। गठित टीम द्वारा वांछित अभियुक्त रोहित को गिरफ्तार किया गया।

पूछताछ के दौरान आरोपी रोहित ने बताया कि 02 माह पूर्व जानसठ रोड़ पर नैक्सा शॉरूम में काम करने के दौरान मेरी दोस्ती धर्मेन्द्र पुत्र रविन्द्र सिंगाडिया निवासी अग्रसैन विहार थाना नई मण्डी, मुजफ्फरनगर से हो गयी थी जो कि उसी कम्पनी में कैश लाने व ले जाने का काम करता था। धर्मेन्द्र से मैनें 5000 रू0 उधार ले लिये थे जिसके लिए धर्मेन्द्र मुझे बार-बार फोन करके पैसे मांगता था, इस बात से मैं बहुत परेशान हो गया था।

6 जुलाई को धर्मेन्द्र ने फोन करके पैसे मांगे तो मैनें उसे पैसे देने के बहाने घर पर बुलाया। धर्मेन्द्र की स्कूटी एटूजेड़ कालोनी में खड़ी करके हम दोनों दीवार कूदकर वसुन्धरा कालोनी मेरे घर में आ गये। धर्मेन्द्र के पास एक बैग था जिसमें कम्पनी का कैश था। पैसे देखकर मेरे मन में लालच आ गया और मैनें घर में रखी हुई छुरी से धर्मेन्द्र के सिर में पीछे से प्रहार कर दिया, जिससे धर्मेन्द्र वही पर गिर गया, उसके बाद मैने उसके शरीर पर कई जगह पर छुरी से प्रहार कर हत्या कर दी तथा शव को खींचकर घर में बाहर की साईड बने बाथरूम में छुपा दिया।

शव को ठिकाने लगाने का मौका न मिलने के कारण उसमें बहुत बदबू हो गयी थी। मैंने शव ठिकाने लगाने के लिए एक रेहड़े वाले 50,000 रू0 में बात की। मैनें और उस रेहड़े वाले ने धर्मेन्द्र के शव को पोलीथीन में लपेटकर रेहड़े में बांध कर ठिकाने लगाने के लिए भेज दिया। धर्मेन्द्र का फोन मैनें मंसूरपुर क्षेत्र में फेंक दिया था और स्कूटी को थाना कोतवाली नगर क्षेत्र में एक गली में खड़ा कर दिया था ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here