मां शबनम से मिले रामपुर जेल पहुंचा बेटा ताज, राष्ट्रपति को पत्र लिखकर लगाई थी माफी की गुहार

फांसी की सजा मुकर्रर होने के बाद शबनम और सलीम ने राष्ट्रपति के समक्ष दया याचिका लगाई थी, जिसे खारिज कर दिया गया है। हांलकि, शबनम को किस दिन फांसी दी जाएगी इसका फैसला अभी नहीं हुआ है। वहीं, रविवार को शबनम का बेटा उससे मिलने जेल पहुंच गया। इस दौरान उसकी देखभाल करने वाला बुलंदशहर निवासी पत्रकार उस्मान भी साथ रहे। बता दें, 14-15 अप्रैल 2008 की काली रात को शबनम ने अपने प्रेमी सलीम के साथ मिलकर अपने पूरे परिवार की हत्या कर दी। इस मामले में शबनम को फांसी की सजा सुनाई गई है।

शबनम ने जेल में दिया था ताज को जन्म

शबनम ने जेल में बेटे ताज को जन्म दिया था, जिसकी देखभाल बुलंदशहर के सुशीला विहार कॉलोनी में रहने वाले पत्रकार उस्मान सैफी कर रहे हैं। रविवार को उस्मान और उसका बेटा दोपहर करीब 12:00 बजे के आस पास रामपुर जिला कारागार के अंदर शबनम से मिलने गए। बता दें कि उस्मान सैफी के संरक्षण में शबनम का बेटा ताज पला-बढ़ा है। ताज को भी अब अपने मां (शबनम) के गुनाहों का अहसास है। हालांकि, 13 साल के ताज ने राष्ट्रपति को पत्र लिखकर अपनी मां को माफ करने की गुहार लगाई है।

पत्रकार उस्मान ने ताज द्वारा राष्ट्रपति के नाम पत्र लिखे जाने की जानकारी दी। शबनम के 13 साल के बेटे ताज ने राष्ट्रपति के नाम एक पत्र लिखा है, जिसमें उसने अपनी मां (शबनम) के लिए माफी की गुहार लगाई है। शबनम के बेटे ताज ने अपने पत्र में कहा कि, ‘राष्ट्रपति अंकल जी, मेरी मां को माफ कर दो।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here